NLU Kolkata (NUJS) Entrance Exam, Admission Process and Courses Details

शेयर करें :

NUJS विश्वविद्यालय बार काउंसिल ऑफ इंडिया (बीसीआई), द वेस्ट बंगाल नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ़ ज्यूरिडिकल साइंसेज (WBNUJS) द्वारा मान्यता प्राप्त है। यह पांच वर्षीय लॉ डिग्री मॉडल पर निर्मित है और इसी विधि द्वारा इसे कार्यान्वित किया जाता है।

स्थापना

NUJS भारत के कुलीन राष्ट्रीय लॉ स्कूलों में से एक है। NUJS को WBNUJS अधिनियम, 1999 के तहत स्थापित किया गया था।

विश्वविद्यालय को अगस्त 2004 में यूजीसी अधिनियम, 1956 की धारा 2 के खंड (एफ) के तहत अधिसूचित किया गया था और इसे बार काउंसिल ऑफ इंडिया द्वारा स्थायी संबद्धता प्रदान की गई थी। यह भारत के स्वायत्तशासी लॉ स्कूलों में से एक है।

कोर्स की डिटेल

NUJS एक पब्लिक लॉ स्कूल और एक राष्ट्रीय विश्वविद्यालय है, जो बीए-एलएलबी (ऑनर्स), बीएससी-एलएलबी (ऑनर्स), एलएलएम (कॉर्पोरेट और कमर्शियल लॉ), एम फिल, पीएचडी और एलएलडी जैसे पाठ्यक्रम में प्रवेश प्रदान करता है। इसके साथ ही, विश्वविद्यालय विभिन्न विशेषज्ञता में डिप्लोमा या पीजी डिप्लोमा पाठ्यक्रम भी प्रदान करता है।

रैंकिंग चार्ट

NUJS का कैम्पस 5 एकड़ में फैला हुआ है। इसे NIRF की 2019 “Best Law School” रैंकिंग चार्ट में पाँचवां प्राप्त हुआ है। India Today के रैंकिंग चार्ट में दूसरा स्थान एवं Outlook पत्रिका ने तीसरा स्थान दिया है।

NUJS में कुल 3 मुख्य कोर्स हैं जिसमें 16 शाखाएं हैं। इसमें दोनों तरह की शिक्षा प्रणाली का प्रावधान है, जैसे यदि अभ्यर्थी चाहे तो फुल टाइम के साथ-साथ आंशिक समय भी पढ़ाई करके कोर्स पूरा कर सकते हैं। इसमें LLB की 144 सीटें और LLM की 40 सीटें उपलब्ध हैं।

NUJS, कोलकाता प्रवेश प्रक्रिया

NUJS में विभिन्न कार्यक्रम में प्रवेश NUJS, कोलकाता की अध्यक्षता में राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालयों के संघ द्वारा आयोजित आम कानून प्रवेश परीक्षा (CLAT) द्वारा कड़ाई से किया जाता है।

  • CAT स्कोर के माध्यम से बीए / बीएससी-एलएलबी और एलएलएम सीटों की पेशकश की जाती है।
  • पीजी डिप्लोमा में प्रवेश मेरिट के आधार पर किया जाता है।
  • विश्वविद्यालय M.Phil और पीएचडी प्रवेश के लिए एक अलग प्रवेश परीक्षा आयोजित करता है।
  • विश्वविद्यालय M.Phil / पीएचडी प्रवेश के लिए UGC / SLET / SET / JRF परीक्षा के अंको को स्वीकार करता है।

NUJS, कोलकाता प्लेसमेंट

  • स्नातक कोर्स के 2020 बैच में 65 छात्रों को रखा गया था, जिसमें से 33-35 छात्रों ने PPO स्वीकार कर लिया।
  • उच्चतम वेतन पैकेज 46 LPA था, जबकि टॉप रिक्रूटर्स में एक प्रसिद्ध लॉ फर्म, त्रिलगल थे, जिन्होंने 2020 के बैच के लिए कुल 21 ऑफर किए थे। इसके साथ ही अमरचंद मंगलदास और AZB और पार्टनर्स कुछ प्रतिष्ठित संस्थानों जिन्होंने कैंपस भर्ती में भाग लिया था।

अंतर्राष्ट्रीय लॉ फर्मों ने 2019 में अधिकतम 46 का सालाना सैलरी पैकेज ऑफर किया वहीं पर घरेलू लॉ फर्मों ने अधिकतम 15-18 लाख एवं न्यूनतम 10-12 लाख का न्यूनतम पैकेज ऑफर किया था।

NUJS, कोलकाता छात्रवृत्ति

विश्वविद्यालय एक MHRD योजना के तहत एक विशेष एससी / एसटी छात्रवृत्ति प्रदान करता है। छात्रवृत्ति को “NUJS मेरिट-कम-मीन्स छात्रवृत्ति” नाम दिया गया है। इस छात्रवृति के लिए योग्य होने के लिए मुख्यतः दो घटक आवश्यक हैं।

  1. तत्काल की पूर्ववर्ती परीक्षा में कुल (CGPA, GPA) में प्राप्त न्यूनतम अंक आवश्यक हैं।
  2. माता-पिता दोनों की वार्षिक आय 2 लाख से कम होनी चाहिए।

अन्य : कानून के छात्र भी आदित्य बिड़ला छात्रवृत्ति के लिए आवेदन कर सकते हैं।


शेयर करें :
guest
0 कमेंट
Inline Feedbacks
सभी कमेंट देखें...